नयति की डाॅक्टर बनी इम्यूनोलाॅजी के क्षेत्र में पुरस्कार पाने वाली प्रथम भारतीय

निदेशक डाॅ. निभृति दास को इण्डियन इम्यूनोलाॅजी सोसायटी के द्वारा भारत में चलाये गये सबसे अच्छे अभियान के लिए संस्था का सर्वोच्च पुरस्कार प्राप्त हुआ। इस क्षेत्र में यह पुरस्कार पाने वाली डाॅ. निभृति दास पहली भारतीय हैं।मथुरा । नयति मल्टी सुपर स्पेशियलिटी हाॅस्पिटल के प्रयोगशाला चिकित्सा विभाग की 29 अप्रैल को प्रत्येक वर्ष इन्टरनेशनल इम्यूनोलाॅजी डे मनाया जाता है तथा वर्ष भर इम्यूनोलाॅजी के क्षेत्र में पूरे विश्व में लोगों को जागरुक करने के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाते हंै। जिनकी हर तीन वर्ष में समीक्षा होती है। उसी त्रिवर्षीय कार्यक्रम मंे डाॅ. निभृति दास को बेस्ट केम्पेनर का पुरस्कार मिला। पुरस्कार राशि जो कि 2000 यूरो है जो कि इण्डियन इम्यूनोलाॅजी सोसायटी को जायेगा।

 
इस अवसर पर दुनिया भर से आए हुए लोगों को सम्बोधित करते हुए डाॅ. निभृति दास ने कहा कि इम्यूनोलाॅजी के क्षेत्र में जितना अधिक प्रचार एवं प्रसार हो सकेगा, उतना आम लोगों के लिए लाभकारी होगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में अभी और अधिक कार्य करने की आवश्यकता है और हम सब मिलकर इस क्षेत्र की जानकारी जन-जन तक पहुँचाने का प्रयास करेगें। यह पुरस्कार प्राप्त करते हुए मुझे काफी प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है, भविष्य में इस क्षेत्र में और अच्छा कार्य कर सकूँ ऐसा मेरा सदैव प्रयास रहेगा।

 
ज्ञात हो कि डाॅ. निभृति दास भारत में इण्डियन इम्यूनोलाॅजी सोसायटी की सचिव के तौर पर कार्य कर रही हंै तथा यह पुरस्कार उन्हें सोसायटी के एम्बैस्डर के रूप में मिला है। विश्व इम्यूनोलाॅजी दिवस (29 अप्रैल) के प्रचार एवं प्रसार के लिए डाॅ. निभृति दास ने भारत के विभिन्न प्रदेशों के काॅलेज, स्कूल तथा विश्वविद्यालयों के सहयोग से 50 से अधिक कार्यक्रम आयोजित किये, जिनमें उनके द्वारा विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएँ आयोजित कराई गयीं। जिसमें वार्ता, सेमिनार, विचार-विमर्श, पोस्टर प्रस्तुतियाँ, प्रश्नोत्तरी, खेल तथा कला आदि प्रमुख थीं।

 
इसके अलावा डाॅ. निभृति दास को आईयूआईएस के सदस्यों द्वारा काउन्सिल सदस्य भी चुना गया । आईयूआईएस की सदस्य चुनी जाने वाली डाॅ. निभृति दास पहली भारतीय महिला हैं। आईयूआईएस रोगप्रतिरक्षण सोसायटी के अन्तर्राष्ट्रीय संघ और ईएफआईएस (रोगप्रतिरोधक प्रतिरक्षण सोयायटी के यूरोपीय संघ) इम्यूनोलाॅजी दिवस में भाग लेने के लिए राष्ट्रीय समितियों को प्रोत्साहित करने तथा इम्यूनोलाॅजी अनुसन्धान के लाभ को बढ़ावा देने के लिए एक साथ काम कर रहे हैं। समापन समारोह में विश्व विख्यात नोबल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक डाॅक्टर डोहर्थी ने भाषण दिया।

Back