नयति में जानलेवा रूप की डाइबिटीज से पीड़ित 12 वर्षीय बच्ची का हुआ सफल इलाज

डाइबिटीज के कारण एक बार में चार लोगों का खाना खा लेती थी मुस्कान

मथुरा 6 अक्टूबर। नयति मेडिसिटी में डाइबिटिक कीटो एसिडोसिस (जानलेवा रूप की डाइबिटीज) संक्रमण और किडनी फेलियर से ग्रस्त 12 वर्षीय बालिका मुस्कान की सफलतापूर्वक इलाज करके जान बचायी गयी।

मथुरा निवासी 12 वर्षीय मुस्कान पिछले काफी दिनों से पेटदर्द, चक्कर आना आदि अन्य कई प्रकार की परेशानियों से जूझ रही थी और तो और उसकी भूख काफी बढ़ गयी थी, जिसकी वजह से वह एक बार में 4 लोगों के जितना खाना खा जाती थी। उसके परिवार के द्वारा उसे शहर के कई डॉक्टरों को दिखाया गया लेकिन कोई उसकी बीमारी की तह तक नहीं पहुंच पा रहे थे। तब वे मुस्कान को लेकर नयति मेडिसिटी आये जहां आकर वे नवजात शिशु एवं बालरोग विभाग में मिले। नयति में उनकी सघनता से जांच करायी गयी तो पता चला कि मुस्कान एक गम्भीर प्रकार की डाइबिटिक कीटो एसिडोसिस (जानलेवा रूप की डाइबिटीज) से पीड़ित है जिसका किडनी, लीवर और शरीर के अन्य अंगो पर भी असर पड़ रहा था।

इस अवसर पर नयति मेडिसिटी के सीईओ डॉ. आर. के. मनी ने कहा कि जब मुस्कान हमारे पास आई थी तब उसकी हालत बहुत खराब थी उसके पेट में दर्द था सांस फूल रही थी और दौरे भी पड़ रहे थे। जांच के बाद पता चला कि डाइबिटीज की वजह से मुस्कान का खून भी काफी गाढ़ा हो गया था (ट्राइग्लिसराइड काफी बढा हुआ था)। मुस्कान को डाइबिटिक कीटो एसीडॉसेस नामक बीमारी थी जिसकी वजह से उसकी भूख भी बढ़ गयी थी। मुस्कान का लीवर तथा किडनी भी काफी खराब स्थिति में पहुंच गई थी और उसके मस्तिष्क में सूजन आ गयी थी। जिसकी वजह से उसे वेंटिलेटर पर रखना पड़ा और डायलेसिस की जरूरत पड़ी, अधिकतर ऐसे बच्चों में बचने की सम्भावना न के बराबर होती है। यदि मुस्कान को समय रहते उचित इलाज नहीं मिलता तो स्थिति गंभीर हो सकती थी। अब मुस्कान बिल्कुल ठीक है और सामान्य बच्चे की तरह अपना जीवन व्यतीत कर रही है लेकिन भविष्य में उसे समय समय पर डॉक्टर से अपनी जांच कराने के साथ दवा भी खानी पड़ेगी।

हमने ब्रजवासियों के लिए अपने यहां शुरू से ही विश्वस्तरीय इलाज देने का प्रयास किया है जिसमें हम कामयाब हो रहे हैं। हमारे यहां का नवजात शिशु एवं बालरोग विभाग के विशेषज्ञ अभी तक बहुत बच्चों को नया जीवन दे चुके हैं। हमारा हमेशा यह प्रयास रहता है कि जो भी मरीज नयति में आये उसे हम विश्व का बेहतरीन इलाज तथा सुविधा प्रदान कर सकें।

Back