नयति मेडिसिटी ने किडनी के मरीजों को किया जागरूक

उचित दिनचर्या तथा नित्य व्यायाम द्वारा हो सकता है किडनी रोगों से बचाव : डॉ. साहू

मथुरा 20 जून। ठीक दिनचर्या और खानपान पर ध्यान देने तथा अपनी जीवनशैली में प्रतिदिन व्यायाम और योग आदि को शामिल करने से किडनी से सम्बंधित रोगों से बचा जा सकता है। ये कहना था नयति मेडिसिटी के किडनी रोग विभाग के डायरेक्टर डॉ. के.एम साहू का जो हॉस्पिटल परिसर में आउटरीच विभाग द्वारा आयोजित किडनी रोगों से सम्बंधित एक सेमिनार को सम्बोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि किडनी रोगों के मरीजों को पानी पीने की मात्रा का विशेष ध्यान रखते हुए 1.5 लीटर से अधिक पानी नहीं पीना चाहिए। जिन फलों में पोटेशियम और फॉस्फोरस पाया जाता है उन फलों का प्रयोग बिल्कुल नहीं करना चाहिए। डाइबिटीज तथा ब्लडप्रेशर के मरीजों को अपना विशेष ध्यान रखना चाहिए क्योंकि उन्हें किडनी के रोग होने की संभावनाएं अधिक रहती हैं।
इस अवसर पर नयति मेडिसिटी के सीईओ डॉ आर के मनी ने कहा कि समाज का हर व्यक्ति स्वस्थ जीवन जी सके यही सपना है नयति मेडिसिटी का, इसीलिए हम समय समय पर लोगों को जागरूक करने के लिए इस प्रकार के सेमिनार तथा कैम्प आदि लगाते रहते हैं।लोग यदि अपनी जीवनशैली में थोड़ा सा ही बदलाव ले आयें तो वे दवा आदि खाने से बच सकते हैं।
उन्होंने कहा कि आज नयति मेडिसिटी में विश्वस्तरीय उपचार मौजूद है। हमारा हमेशा से यह प्रयास रहता है कि लोगों तक बेहतरीन उपचार कम खर्चे में उपलब्ध करा सकें और उसमें हम कामयाब भी हो रहे हैं।
कार्यक्रम का उद्घाटन फूड एन्ड सेफ्टी ऑफिसर चन्दन पाण्डे, डॉ. टी एस कुकरेजा, डॉ. पी.बी सिंह आदि ने किया। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से डॉ. शान्तनु चौधरी, डॉ. अमित भार्गव, डॉ. प्रमोद कुमार कोहली, डॉ. धर्मेन्द्र कमला, आउटरीच विभाग के प्रमुख विवेक दवे, शाजिया शेख, नवनीत सिंह, हेमराज सिंह तथा राया नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सुभाष अग्रवाल आदि मौजूद थे।

Back