स्वामी अवधेशानन्द ने बच्चों के कैंसर तथा कार्डियक सर्जरी कराने को फाउण्डेशन की स्थापना की

फाउण्डेशन करायेगा नयति हाॅस्पिटल में बच्चों की कार्डियक सर्जरी

बाल दिवस के अवसर पर हरिद्वार स्थित जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी अवधेशानन्द गिरी जी महाराज की अध्यक्षता में नयति पैडियाट्रिक फाउंडेशन की स्थापना की गयी है। यह फाउंडेशन बच्चों के बीच बढ़ रहे हृदय तथा कैंसर से पीड़ित असहाय तथा गरीब परिवार के बच्चों के इलाज में मदद करेगा। इस अवसर पर स्वामी अवधेशानन्द गिरी जी ने कहा कि देश में बच्चों की एक बड़ी संख्या कार्डियक रोगों से पीड़ित है। एक आकड़े के अनुसार देश में हर साल 1.5 लाख से लेकर 1.8 लाख नवजात शिशु हृदय रोग से पीड़ित होते हैं। भारत में ओसतन देखा जाये तो उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक मरीज हैं, जो उचित देखभाल तथा धन की कमी के कारण अपना पूरा जीवन नहीं जी पाते। बच्चे ही देश की धरोहर तथा भविष्य हैं, इनको स्वस्थ जीवन देना हमारा तथा हमारे समाज का प्रमुख दायित्व है। यदि ये बच्चे स्वस्थ नहीं रह पायेंगे तो हमारे देश का भविष्य भी कमजोर हो जायेगा। हम चाहते हैं कि धनाभाव के कारण किसी बच्चे का जीवन खतरे में न पड़े, इसके लिए इस फाउंडेशन की स्थापना की गयी है।

 

स्वामी अवधेशानन्द ने कहा कि पिछली बार जब मैं अध्यात्म उत्सव के अवसर पर नयति हाॅस्पिटल गया था तब वहां की विश्वस्तरीय व्यवस्थाएं तथा चिकित्सकों को देखकर बहुत प्रभावित हुआ तथा मन में यह विचार भी आया कि अब ब्रजवासियों तथा क्षेत्रवासियों को विश्वस्तरीय इलाज के लिए कहीं बाहर नहीं जाना पड़ेगा। तब मुझे यह भी बताया गया था कि हाॅस्पिटल में छः माह के कार्यकाल में अनुभवी तथा योग्य चिकित्सकों ने कई कार्डियक सर्जरी की है जिसने मुझे बहुत प्रभावित किया। जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि इस क्षेत्र में कार्डियक तथा कैंसर से पीड़ित कई बच्चें हैं जिनके माता-पिता धनाभाव के कारण उनका इलाज नहीं करा पा रहे, इसलिए मैंने यह निश्चय किया कि नयति हाॅस्पिटल में कार्डियक सर्जरी से सम्बन्धित 101 बच्चों के इलाज के खर्च की व्यवस्था कराई जाएगी।

 

नयति हाॅस्पिटल की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने स्वामी अवधेशानन्द गिरी जी महाराज द्वारा की गयी इस घोषणा का हृदय से स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि पिछले 7 महीने में हमारे हाॅस्पिटल में जितने भी कार्डियक से सम्बन्धित आॅपरेशन हुए उनमे 25 प्रतिशत से अधिक संख्या बच्चों की थी। जिनमें 5 माह से लेकर 19 वर्ष तक के अनेकों बच्चों की कार्डियक सर्जरी की जा चुकी है, जिनमें से कुछ बच्चों के परिवार की आर्थिक स्थिति सही न होने के कारण उनकी सर्जरी की व्यवस्था हमारे द्वारा भी की गई। समाज में उदार हृदय व्यक्तियों की कमी नहीं है बस उन तक अपनी बात पहुँचाने की आवश्यकता है। समाज के हर तबके तक अच्छे और विश्वस्तरीय चिकित्सा पहुँचे ऐसा हमारा हमेशा प्रयास रहता है। स्वामी जी द्वारा की गयी घोषणा तथा उनके सहयोग द्वारा बनाये गये फाउण्डेशन से मुझे पूरा विश्वास है कि जरुरतमन्दों को इसका अवश्य लाभ मिलेगा। इसके लिए फाउण्डेशन की तरफ से एक कमेटी का गठन किया गया है जो तय करेगी कि किस बच्चे की कार्डियक सर्जरी फाउण्डेशन द्वारा करायी जाए।

 

इस अवसर पर नयति हॉस्पिटल के डायरेक्टर राजेश चतुर्वेदी ने कहा कि गुरुओं के आशीर्वाद तथा भगवान श्रीकृष्ण की असीम अनुकम्पा से आज हम बृजवासियों की सेवा कर पा रहे हैं तथा आगे भी करते रहेंगे। अब अच्छा तथा विश्वस्तरीय इलाज बृजवासियों के पास ही मौजूद है जिससे उन्हें इलाज के लिए कही दूर नहीं जाना होगा।

Back