PRESS RELEASES

November 25, 2019

नयति में गुर्दे के कैंसर की गांठ का हुआ सफल ऑपरेशन, गुर्दे से निकाली 1.2 किलो की गांठ

  • 25 November, 2019

मथुरा 23 नवंबर। एटा निवासी गंधर्व सिंह के गुर्दे में हुई कैंसरग्रस्त गांठ को नयति मेडिसिटी के यूरोलॉजी विभाग में सफलतापूर्वक निकाल दिया गया।

45 वर्षीय एटा निवासी गंधर्व सिंह काफी समय से पेट दर्द की शिकायत से पीड़ित थे। उन्हें पेशाब में जलन और खून आने की शिकायत भी शुरू हो गयी। कई डॉक्टरों को दिखाने के बाद भी उन्हें कोई लाभ नहीं मिला तब वे नयति मेडिसिटी के यूरोलॉजी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ हर्ष गुप्ता से मिले।

नयति मेडिसिटी के यूरोलॉजी विभाग के डॉ हर्ष गुप्ता ने बताया कि जब हमने गंधर्व सिंह की जांच की तो पता चला कि इनके गुर्दे में कैंसर की 13X12 सेमी बड़ी गांठ है, जिसकी वजह से उन्हें पेट दर्द और पेशाब में खून आदि की समस्या हो रही है। गुर्दे में कैंसर की गांठ होने के कारण तत्काल उनका गुर्दा निकलना जरूरी था। परिवार की सहमति के बाद हमने रैडिकल नैफ़्रेक्टोमी विधि द्वारा उनका कैंसर युक्त गुर्दा निकाल दिया अब वे ठीक हैं और जल्द ही सामान्य जिंदगी जीने लगेंगे।

उन्होंने कहा कि पेट में दर्द या पेशाब में किसी भी तरह की समस्या होने पर लापरवाही न बरतते हुए यूरोलोजिस्ट को दिखाना चाहिए। जरा सी चूक होने पर रोग बढ़ जाता है जिसकी वजह से जान का खतरा भी हो सकता है।

November 12, 2019

नयति हॉस्पिटल से जुड़े देश के प्रख्यात ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ राजीव शर्मा

  • 12 November, 2019

आगरा 11 नवंबर। दिल्ली के व्हिमांस नयति के इंस्टीट्यूट ऑफ ऑर्थोपेडिक्सए स्पोर्ट्स मेडिसिन और ऑर्थ्रोप्लास्टी के चेयरमैन डॉ राजीव शर्मा अब नयति हॉस्पिटल, आगरा में भी अपनी सेवाएं देंगे। वे हर सप्ताह के शनिवार और रविवार को 12 से 4 बजे तक मरीजों के लिए अपना समय प्रदान करेंगे।

ज्ञात हो कि डॉ राजीव शर्मा को ऑर्थोपेडिक्स और ज्वाइंट रिप्लेसमेंट के क्षेत्र में 30 साल से अधिक का अनुभव प्राप्त है। उन्होंने दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो में ऑर्थोपेडिक्स एंड ज्वाइंट रिप्लेसमेंट के सीनियर कंसल्टेंट के रूप में 18 साल और दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, एम्स में सीनियर फैकेल्टी के रूप में 7 साल अपनी सेवाएं प्रदान की हैं। डॉ राजीव शर्मा देश के पहले ऐसे हड्डी रोग विशषज्ञ है जिन्होंने 135 वर्षीय महिला की टोटल नी रिप्लेसमेंट जैसी जटिल सर्जरी भी सफलतापूर्वक की है। इसके साथ ही डॉ राजीव के पास उपलब्धियों के रूप में 6000 से अधिक ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी, 1100 मोबाइल बियरिंग नी रिप्लेसमेंट व 650 हाई फ्लेक्शन नी इम्प्लांट्स सफल सर्जरी करना तो शामिल है ही साथ ही उन्होंने वर्ष 2004 में इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पीटल में कम्प्यूटर नेविगेशन पद्धति पर 1000 से अधिक नी ऑर्थोप्लास्टी केस भी किये हैं।

 

इस अवसर पर नयति हैल्थकेयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने कहा कि डॉ शर्मा के नयति हॉस्पिटल, आगरा का हिस्सा बनने पर हम बहुत खुश हैं, और नयति में उनकी विशेषज्ञता का लाभ उठाने के लिए तत्पर हैं। इस क्षेत्र में ऑर्थराइटिस के काफी मरीज हैं। आगरा एवं आसपास के क्षेत्रों में हड्डी रोग से जुड़े तमाम जटिल केस देखने को मिलते हैं, जिनमें एक्सीडेंट के मामलों की संख्या भी बहुत अधिक होती है। वैसे तो नयति के हड्डी रोग विभाग में देश के बेहतरीन डॉक्टरों की एक टीम है लेकिन अब यहां के मरीज वरिष्ठ ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ राजीव शर्मा के अनुभव का लाभ भी प्राप्त कर सकेंगे। हमारा हमेशा प्रयास रहा है कि हम यहां के लोगों के लिए सर्वोत्तम स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करा सकें जिसके लिए हम सदैव विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधा और सर्वश्रेष्ठ इलाज देने की दिशा में काम करते हैं। हमें पूरा विश्वास है कि डॉ राजीव शर्मा डिपार्टमेंट ऑफ ऑर्थोपेडिक – ज्वाइंट रिप्लेसमेंट को नई ऊंचाइयों तक ले जाएंगे। डॉ राजीव को ऑर्थोपेडिक के क्षेत्र में दर्द रहित ज्वाइंट रिप्लेसमेंट के लिये जाना जाता है, जिसके बाद मरीज 24 घंटे में ही चलने लगता है, और मरीज को बहुत तेजी से स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होता है।

 

नयति हॉस्पिटल, आगरा से जुड़ने पर अपनी प्रसन्नता जाहिर करते हुए डॉ राजीव कुमार ने कहा कि मैं पिछले कई वर्षों से महानगरों में ही अपनी सेवाएं दे रहा हूं, जहां महानगरों के अलावा अधिकतर टियर 2 और टियर 3 शहरों के मरीज होते थे। भगवान की कृपा से ही मुझे आगरा आकर यहां के लोगों की सेवा का अवसर प्राप्त हुआ है जिसकी मुझे खुशी है। डॉ राजीव ने कहा कि नयति की चेयरपर्सन नीरा राडिया जी की सोच हर मरीज को उनके अपने ही शहर में बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिले से काफी प्रभावित हूं। उनके प्रयासों से विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधाओं को टियर 2 टियर 3 शहरों तक पहुंचाया जा सका।