नयति एक आंदोलन है और नयति मेरे लिए तीर्थ भी है: स्वामी अवधेशानन्द

नयति एक आंदोलन है और नयति मेरे लिए तीर्थ भी है: स्वामी अवधेशानन्द
सभी का जीवन हमारे लिए एक समान: नीरा राडिया

मथुरा 28 फरवरी। नयति मेडिसिटी के एक वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर हॉस्पिटल परिसर में देश तथा आसपास के क्षेत्रों के जाने पहचाने लोगों का समागम हुआ जिनमें हरिद्वार स्थित जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी जी महाराज प्रमुख रूप से उपस्थित थे। ज्ञात हो कि नयति हेल्थकेयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया द्वारा नयति मेडिसिटी की स्थापना आज से एक वर्ष पूर्व की गयी थी। उससे पहले नयति हेल्थकेयर द्वारा 16 मोबाईल हेल्थ यूनिट के माध्यमों से उत्तरप्रदेश तथा उत्तराखंड के सुदूर स्थानों के उन लोगों तक उपचार पहुंचाया जा रहा था जिनके पास किसी भी प्रकार की कोई सुविधा नहीं पहुंच पाती थी।

इस अवसर पर नयति हेल्थकेयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने अगले माह नयति मेडिसिटी मथुरा में किडनी ट्रांसप्लांट शुरू होने की भी घोषणा के साथ ही 2019 के आरम्भ तक अमृतसर और बनारस में भी नयति हॉस्पिटल शुरू करने की घोषणा की।

इस अवसर पर जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी जी महाराज ने नयति मेडिसिटी के एक वर्ष पूर्ण होने पर बधाई देते हुए कहा कि मनुष्य की पहली मॉग जीजीविषा है, वह जीवन चाहता है, सुखपूर्वक, आनंदपूर्वक, सम्मानपूर्वक। मनुष्य जीवन की रक्षा चाहता है। नयति की सम्भावनाएं, संकल्प, कार्यविधि ने मुझे पूरी तरह झकझोर दिया । नयति अब एक आंदोलन है, मेरे लिए नयति तीर्थ भी है क्योंकि मेरी मॉ ने यहीं जीवन पाया और यहीं से स्वर्ग के लिए प्रस्थान किया। यह स्थान धनार्जन के लिए नहीं है, सेवाभाव से शुरू किया गया एक आन्दोलन है। आंदोलन का अर्थ है सचेत किया जाए उनकी आरोग्यता के लिए, जीवन सिद्धी के लिए और अनन्तता अर्जित करने के लिए । नयति की स्थापना करके श्रीमती नीरा जी ने इस क्षेत्र के भटकाव को दूर किया है कोई मुझसे पूछे कि सन्यास में आपका कोई अभियान है क्या…. तो मैं कहुंगा अन्न, अक्षर, औषधि की सबके लिए सहज उपलब्धता ही मेरा अभियान है। मैं नयति की सम्पूर्ण आरोग्य यात्रा में नीरा जी तथा टीम नयति के साथ हूं ।
नयति मेडिसिटी का कैंसर विभाग अब देश के सर्वोत्तम कैंसर उपचार केन्द्रों में से एक है। अब यहाँ कैंसर का विश्वस्तरीय उपचार बेहद कम दाम में उपलब्ध है। आने वाले समय में कैंसर के इलाज को लेकर टाटा मैमोरियल की तरह नयति मेडिसिटी भी उत्तर भारत का सबसे भरोसेमंद नाम बन जायेगा।

नयति मेडिसिटी की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने कहा सबसे पहले मैं अपने यहाँ के डॉक्टरों का धन्यवाद करना चाहूंगी जिन्होंने मेरे साथ आकर इस संकल्प को आगे बढ़ाने में सहयोग दिया। हमने अपने यहॉ आने वाले मरीजों में कभी कोई फर्क नहीं किया है। हमारे यहॉ सभी लोग चाहे वो 300 रुपये रोज कमाना वाला हो अथवा कोई करोड़पति। चिकित्सा के क्षेत्र ने मुझे सिखाया कि सभी का जीवन एक समान है और उसमे किसी प्रकार का कोई अवरोध नहीं होना चाहिए। हमारे लिए सभी का जीवन एक समान है। हमारी सबसे बड़ी उपलब्धी यह है कि नयति मेडिसिटी में हर बीमारी के इलाज के लिए विशेषज्ञों की टीम 24 घण्टे मोजूद है। हमारे यहॉ देश के जाने-माने 160 से अधिक डॉक्टरों की बेहतरीन टीम है जो किसी भी बीमारी का इलाज करने में सक्षम है। मैं धन्यवाद करना चाहुंगी नयति मेडिसिटी के सीईओ डॉ. आर.के. मनी का जिनके नेतृत्व में हमारे डॉक्टरों की टीम काम कर रही है जो चिकित्सा के क्षेत्र में नित नये आयाम स्थापित कर रही है। हमारे यहॉ के डॉक्टरों की रिपोर्ट अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी कई जगह प्रकाशित हो चुकी है । हमारे सीईओ डॉक्टर मनी अपनी टीम को किसी भी बीमारी के लिए न्यायसंगत दवाइयों का प्रयोग करने को प्रोत्साहित करते हैं।

हमको बताते हुए खुशी हो रही है कि अगले माह से नयति मेडिसिटी में किडनी ट्रांसप्लांट शुरू हो जायेंगे । हमसे कई लोगों ने कहा कि हमसे कई लोगो ने कहा कि पहले इस हॉस्पिटल को जमने दो, बाद में नयी तकनीक, नये इलाज लाना। पर हमारा मानना है कि अच्छे और विश्वस्तरीय इलाज पर केवल महानगरों के लोगों का ही अधिकार नहीं है। समाज के हर तबके तक विश्वस्तरीय इलाज पहुंचे अपनी इसी सोच के कारण हमने अमृतसर में अपने 1100 बेड के हॉस्पिटल की नींव रखी थी। हमारा संकल्प है कि अधिक से अधिक लोगों को विश्वस्तरीय सेवाएं दे पायें ।
इस समागम में कई शहर तथा गॉव जैसे भरतपुर, आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, अलीगढ़, हाथरस, होडल आदि के प्रधान, डॉक्टर्स तथा प्रमुख समाज सेवी उपस्थित थे।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Back