नयति के ईएनटी विभाग में तालू से 6×7 सेमी बड़ी गांठ को ऑपरेशन करके निकाला

मथुरा । नयति मेडिसिटी में 32 वर्षीय महिला के तालू पर 6×7 सेमी बड़ी गांठ को ऑपरेशन करके सफलता पूर्वक निकाल दिया गया। नयति आने से पहले मरीज अपना इलाज कराने आगरा और जयपुर तक जा चुका था, जहां उसे कोई लाभ नहीं हुआ और गांठ भी लगातार बढ़ती जा रही थी।

4 वर्ष पूर्व हाथरस निवासी 32 वर्षीय निर्मला के मुंह में तालू पर एक छोटी गांठ हो गयी थी, जिसमें अब दर्द भी शुरू हो गया था। उनका खाना पीना, बोलना आदि बिल्कुल बंद हो गया था। किसी के बताने के बाद वे अपना इलाज कराने नयति मेडिसिटी आयीं और यहां आकर नयति के ईएनटी विभाग के प्रमुख डॉ मनीष जैन से मिलीं। जिन्होंने जरूरी जांचों के बाद ऑपरेशन करके उनके तालू की गांठ निकाल दी।

उन्होंने बताया कि जांच करने के बाद पता चला कि निर्मला के तालू में 6×7 सेमी बड़ी गांठ है जो कैंसर नहीं है और इसे निकालना बेहद जरूरी है। समय रहते यदि यह गांठ न निकाली जाती तो यह बढ़ती रहती जिसकी वजह से इनकी सांस तथा खाने की नली पर दवाब पड़ता और इनके जीवन के लिए ये काफी खतरनाक हो सकती थी। अब निर्मला बिल्कुल स्वस्थ हैं।

इस अवसर पर नयति मेडिसिटी के सीईओ डॉ आरके मनी ने कहा कि नयति में हर प्रकार की विश्वस्तरीय तकनीक तथा चिकित्सक मौजूद हैं जिनके कारण हम लोगों तक बेहतरीन इलाज उपलब्ध करा पा रहे हैं, वो भी महानगरों से कम खर्च में। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आने वाले समय में जो भी नई तकनीक आएगी हम ब्रजवासियों के लिए उपलब्ध कराएंगे।

नयति में अपने ऑपरेशन के बाद निर्मला ने बताया कि नयति में आकर जब हम डॉ मनीष जैन से मिले तो उम्मीद की एक किरण नजर आयी और हमने अपना ऑपरेशन नयति में ही कराने का फैसला किया। अब मैं बिल्कुल ठीक हूँ। ऑपरेशन करने वाली टीम में डॉ श्वेता के महाजन तथा डॉ अमित सिंघल भी प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

Back