नयति के डाक्टरों ने लीवर से सिस्ट निकाल बचाई विदेशी मरीज की जान

15 September, 2018

मथुरा । कई सालों से लीवर में विशाल सिस्ट की वजह से सामान्य जीवन न जी पाने वाले अफगानिस्तान के 24 वर्षीय अब्दुल कादिर कादिरी का नयति के डाक्टरों ने सफल ऑपरेशन से सिस्ट को निकाल अब्दुल को नया जीवन प्रदान किया। अब्दुल लीवर के एक तिहाई हिस्से में जमी सिस्ट के कारण असहनीय दर्द, पेट का फूलना, पसीना, भूख न लगना जैसे परेशानियों से ग्रस्त थे। अफगानिस्तान में कई डाक्टरों से इलाज कराने से भी कोई राहत नही मिला तो उन्हें वहां के डाक्टरों ने भारत में जाकर इलाज कराने की सलाह दी। भारत में अपने जानकारों से बात करने पर अब्दुल को नयति मेडिसिटी और यहां के प्रशिक्षित डाक्टरों और विश्वस्तरीय तकनीक का पता चला। नयति के बारे में काफी जानकारी जुटाने के बाद इन्होंने यहीं पर अपनी सर्जरी करवाने का निश्चय किया। अब्दुल अपने परिवारजनों के साथ नयति के जीआई सर्जरी के प्रमुख डा अजय अग्रवाल से मिले। डा अजय अग्रवाल ने जांचों के बादे पाया कि सर्जरी के माघ्यम से इसका पूर्ण उपचार संभव है। अब्दुल और उनके परिजनों को पूरी सर्जरी के बारें में समझाया गया जिसके बाद परिजनों की सहमति से अब्दुल क सिस्ट को लैप्रोस्कोपिक सर्जरी दूरबीन विधि के माध्यम से निकाल दिया गया।

इस अवसर पर नयति मेडिसिटी के जीआई सर्जरी विभाग के अध्यक्ष डॉ.योगेश अग्रवाल ने कहा कि अब्दुल की सफल सर्जरी के बाद हम काफी खुश है क्यांकि जिस उम्मीद के साथ अब्दुल हमारे देश में आए थे वह नयति के माघ्यम से पूरा हुआ। डॉ. अग्रवाल ने कहा कि इस प्रकार की दुर्लभ सर्जरी के लिए जरूरी आधुनिक संसाधन जैसे एन्सथीसिया, आईसीयू केयर, ब्लड बैंक जैसे कई संसाधन नयति में एक ही छत के नीचे उपलब्ध है साथ ही अनुभवी और विख्यात डाक्टरों की टीम मौजूद है ।

जीआई सर्जरी विभाग के प्रमुख डा अजय अग्रवाल ने कहा कि अब्दुल कई जगह अपना इलाज करा के बाद काफी निराश थे। हमने जांचें करा कर पता लगाया कि सिस्ट काफी बढ़ चुका था और उसने लीवर के एक तिहाई हिस्से को अपनी चपेट में ले लिया था। यह एक हायडेटिक सिस्ट था। सिस्ट के आकार बढ़ने के कारण ही अब्दुल को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। अगर समय से इसका इलाज न होता तो सिस्ट के फटने से जान का खतरा भी हो सकता था। अब्दुल की लैप्रांस्कोपिक सर्जरी के माध्यम सिस्ट को निकाल दिया गया। सर्जरी के मात्र 4 घंटे बाद अब्दुल चलने फिरने लगे और अगले ही दिन उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।


Chat Now