नयति में ओपन हार्ट सर्जरी कर सिकुड़ा वॉल्व बदला

मथुरा। नयति मेडिसिटी में 58 वर्षीय महिला के हृदय के सिकुड़े हुए वॉल्व ओपन हार्ट सर्जरी करके बदला गया। इस प्रकार का ऑपरेशन करने वाला नयति मेडिसिटी इस क्षेत्र का पहला हॉस्पिटल बन गया है।

फतेहपुर सीकरी, आगरा निवासी मिथलेश के कई साल पहले सांस फूलने की परेशानी हुई। डॉक्टरों को दिखाने पर पता चला कि उनका माइट्रल व ट्राइकस्पिड वॉल्व खराब है जिसे बदलने की आवश्यकता है, लेकिन उन्होंने अपना वॉल्व नहीं बदलवाया और दवाएं खाकर अपना काम चलाती रहीं। कुछ समय पहले उनकी तकलीफ काफी बढ़ गयी। उनका खाना पीना बन्द हो गया, सांस लेने में परेशानी होने लगी, नींद नहीं आती थी और हर समय बेचौनी रहने लगीं जिसके बाद वह नयति आयीं, जहां कार्डियक सर्जरी विभाग के चेयरमैन डॉ आदर्श कोप्पुला से मिलीं।

डॉ. कोप्पुला ने बताया कि मनुष्य के हृदय में चार वॉल्व होते हैं मिथलेश की जब जांच की गयी तो पता चला कि इनका वॉल्व खराब हैं और पूरी तरह सिकुड़ गया था और पूरी तरह बंद नहीं हो पा रहा था, जिसके कारण उनका हृदय काफी फैल गया था, और अशुद्ध खून वापस हृदय में ही आ रहा था, जो लेफ्ट एट्रियम में ही इकट्ठा हो रहा था और उनके हृदय में खून के थक्के भी जम गए थे, जिस वजह से उनके फेफड़ों में भी पानी भर रहा था। मेडिकल भाषा के अनुसार उन्हें मिट्रलस्टिनोसिस हो गया था। उनके खराब वाल्ब को बदलने की तुरंत आवश्यकता थी। परिवार की सहमति के बाद हमने अपनी टीम के साथ मिलकर ओपन हार्ट सर्जरी द्वारा मिट्रल वाल्ब रिप्लेसमेंट करके उनके खराब वाल्ब की जगह मैटल वाल्ब लगा दिया और ट्राईकस्पेड वाल्ब की मरम्मत भी कर दी, जिसके बाद अब उनके हृदय में खून के थक्के नहीं पड़ेंगे। वाल्ब बदलने से पहले हमने उनके हृदय ने जमे खून के थक्के भी पूरी तरह हटा दिए।

यह एक बड़ा ऑपरेशन था जिसे करने के लिए कई सुविधाओं एवं मशीनों की जरुरत पड़ती है जो नयति में मौजूद है। हमारे यहां ब्लड बैंक भी है और अन्य डॉक्टरों की टीम भी मौजूद है, जिसकी वजह से हमको ऑपरेशन करने में काफी आसानी हुई।

उन्होंने बताया कि अधिकतर महिलाओं में वॉल्व की शिकायत पायी जाती है जो अक्सर डिलीवरी के समय ही पता चलती है, इसलिए जैसे ही वॉल्व के खराब होने का पता चले तो तुरंत उसका उचित इलाज करा लेना चाहिए।

नयति में अपना ऑपरेशन कराने वाली मिथलेश ने कहा कि अब से कई वर्ष पूर्व डॉक्टरों ने मेरा एक वाल्व खराब बता दिया था। दवाओं के सहारे मैं अपना काम चला रही थी लेकिन पिछले कुछ दिनों से मैं काफी परेशान थी तब हम नयति आये, यहां पर डॉ. आदर्श से हमारी बात हुई और हमने यहां अपना ऑपरेशन कराया जो सफल रहा। अब मुझे कोई परेशानी नहीं है।

ऑपरेशन करने वाली टीम में डॉ. प्रवीर सिन्हा, डॉ विपिन गोयल एवं वीना वोसवाल प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

Back