नयति में जापान के जानेमाने कार्डियोलॉजिस्ट डॉ मासाकाजु ने एंजियोप्लास्टी की आधुनिक तकनीक के बारे में विस्तार से चर्चा की

17 December, 2019

मथुरा 16 दिसंबर। नयति मेडिसिटी में क्रोनिकल टोटल ऑक्यूजन (धमनियों की पुरानी रूकावट) के विषय पर विस्तार से चर्चा करने के लिए एक सेमिनार का आयोजन किया गया।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में देश और दुनिया में आये दिन नयी शोध एवं खोज की जा रही हैं। क्रोनिकल टोटल ऑक्यूजन (धमनियों की पुरानी रूकावट) अथवा एंजियोप्लास्टी के क्षेत्र में भी अब काफी विकसित तकनीक उपयोग में लायी जाने लगी है। इसी बारे में विस्तार से चर्चा करने के लिये जापान के जानेमाने कार्डोयोलॉजिस्ट डॉ मासाकाजू नागाओका नयति मेडिसिटी पहुंचे, जहां उन्होंने हृदय रोगों तथा उनके उपचार के बारे में क्षेत्र भर से आये हुए डॉक्टरों के साथ विस्तार से चर्चा की। इस अवसर पर नयति के कार्डियोलोजी विभाग के डायरेक्टर डॉ जगदानंद झा और डॉ रोहित तिवारी ने क्रोनिकल टोटल ऑक्यूजन (धमनियों की पुरानी रूकावट) के 4 मरीजों का ऑपरेशन भी किया।

डॉ मासाकाजू ने कहा कि मुझे जानकर काफी खुशी हुई कि नयति में आज दुनिया की बेहतरीन डॉक्टरों की टीम विश्वस्तरीय तकनीक का उपयोग करते हुए मरीजों का इलाज कर रही है। हृदय की बंद धमनियों को खोलने के लिये जो विधि अपनायी जाती है, उसे मेडिकल भाषा में एंजियोप्लास्टी कहते हैं। पहले बंद धमनियों को खोलने के लिए जो तार उपयोग में लाया जाता था, उससे कभी कभी कोई धमनी नहीं खुल पाती थी, लेकिन अब जापान में बने हुए नई तरह के तार द्वारा हर तरह की धमनी खुल जाती है।

नयति मेडिसिटी के कार्डियोलोजी विभाग के डायरेक्टर डॉ जगदानंद झा एवं डॉ रोहित तिवारी ने डॉ मासाकाजू का स्वागत करते हुए कहा कि संचार माध्यम की सुगमता की वजह से आज दुनिया में सभी डॉक्टर किसी भी नयी तकनीक का आपस में आदान प्रदान करते ही रहते हैं, जिससे मरीजों के इलाज में और भी ज्यादा सरलता हो जाती है। आज नयति में आयोजित इस सेमिनार में क्षेत्र भर से आये हुए डॉक्टरों को भी काफी लाभ मिला होगा, ऐसा हमें पूरा विश्वास है। 

हम समय समय पर इस प्रकार के सेमिनार आदि का आयोजन करते रहते हैं। दुनिया में आने वाली किसी भी आधुनिक तकनीक को हम नयति तक लाने का प्रयास करते रहेंगे, जिससे यहां आने वाले मरीजों को इसका लाभ मिल सके।

Chat Now