नयति में महिला के हृदय से ऑपरेशन करके निकाली रसौली

क्षेत्र में पहली बार हुआ इस तरह का ऑपरेशन’

मथुरा 10 मार्च। नयति मेडिसिटी में एटा निवासी 32 वर्षीय महिला के हृदय से 10.8 सेमी की रसौली सफलता पूर्वक निकाल दी गयी। यह रसौली महिला के हृदय के बायीं ओर के पम्पिंग चैम्बर की ओर मौजूद थी।

इस प्रकार की रसौली वैसे तो आमतौर पर नहीं होती है लेकिन 2 लाख में से किसी एक इन्सान में इस प्रकार की रसौली हो सकती है। मिक्सोमा नाम की यह रसौली एक प्रकार के कैंसर का ही रूप होता है। इस क्षेत्र में पहली बार इस प्रकार की रसौली का ऑपरेशन किया गया है।

यह जानकारी देते हुए “नयति मेडिसिटी के कार्डियक सर्जरी विभाग के अध्यक्ष डॉ आदर्श कोप्पुला” ने बताया कि एटा निवासी 32 वर्षीय उषा जब हमारे पास आयी थीं तब वे अपनी बीमारी को लेकर काफी परेशान थीं और उन्हें सांस लेने में परेशानी, बेचैनी, घबराहट, घुटन, खांसी के साथ उल्टी आदि कई अन्य समस्याओं से जूझना पड़ रहा था। कई डॉक्टरों को दिखाने के बाद भी उनकी तकलीफ में कोई कमी नहीं आ पा रही थी।

आवश्यक जांच कराने पर पता चला कि इनके हृदय के बायीं ओर के पम्पिंग चैम्बर की ओर 10.8 सेमी की एक रसौली है जिसकी वजह से इनको उक्त समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। यदि समय पर यह रसौली नही निकली जाय तो उषा कोमा में जा सकती थीं अथवा इन्हें लकवा भी मार सकता था। आमतौर पर लोग इस प्रकार की बीमारी को दमा का ही रूप समझते हैं और उसी का इलाज कराते रहते हैं।

परिवार की सहमति के बाद हमने तत्काल इनकी ओपन हार्ट सर्जरी करने का फैसला किया, ऑपरेशन करके इनके हृदय से जुड़ी रसौली को बाहर निकाल दिया गया। ऑपरेशन के बाद उषा को सांस लेने, घबराहट, बेचैनी आदि की जो भी परेशानी थीं वे पूरी तरह खत्म हो गयी हैं।

इस अवसर पर ’नयति मेडिसिटी के सीईओ डॉ आरके मनी’ ने कहा कि नयति हार्ट सेन्टर इस क्षेत्र का सबसे आधुनिक तथा पूर्ण सुविधाओं से युक्त हार्ट सेंटर है जहां विश्वस्तरीय मशीनों के साथ बेहतरीन डॉक्टरों की विशाल टीम मौजूद है जो हृदय रोग सम्बन्धी हर प्रकार का इलाज करने में सक्षम है।

Back