नयति मेडिसिटी और नेफ्रोप्लस में हुई साझेदारी

मथुरा 20 जून।क्षेत्र के सबसे बड़े विश्वस्तरीय अस्पताल नयति मेडिसिटी की देशभर में स्वास्थ्य के क्षेत्र में डायलेसिस की सुविधाएं देने वाली नेफ्रोप्लस से साझेदारी हो गयी है। ज्ञात हो कि नेफ्रोप्लस के अबतक देश के विभिन्न अस्पतालों में 200 से अधिक डायलेसिस सेंटर हैं, जिनके माध्यम से किडनी और डायलेसिस के मरीजों की विश्वस्तरीय तकनीक और सुविधाओं के साथ डायलेसिस की जा रही है।

इस अवसर पर नयति हैल्थकेयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने कहाकि नेफ्रोप्लस के साथ हुई साझेदारी से हमें बेहद खुशी है। डायलेसिस के क्षेत्र में नेफ्रोप्लस काफी अच्छा काम कर रही है, जो डायलेसिस के मरीजों की बेहतर देखभाल आधुनिक एवं विश्वस्तरीय तरीकों से करने के लिए जानी जाती है। जब ये हमारे पास साझेदारी का प्रस्ताव लेकर आये तो हम इंकार नहीं कर सके। नयति शुरू करने से पहले हमने भी संकल्प लिया था कि टियर 2 और टियर 3 शहरों के मरीजों को स्वास्थ्य के क्षेत्र में हर वह सुविधाएं देने का प्रयास करेंगे जिनके लिए उन्हें महानगरों का मुंह ताकना पड़ता था। मुझे पूरा विश्वास है कि नेफ्रोप्लस द्वारा डायलेसिस के मरीजों को उसी प्रकार की सुविधाएं प्रदान करेगी जो नयति हैल्थकेयर प्रदान कर रहा था।

नेफ्रोप्लस के वाइस प्रेसिडेंट (ऑपरेशन) सुकर्ण सिंह सलूजा ने कहाकि हमें नयति हॉस्पिटल जैसे प्रतिष्ठित अस्पताल के साथ साझेदारी करने पर गर्व है। हमें विश्वास है कि नेफ्रोप्लस मथुरा शहर में और उसके आसपास डायलिसिस पर आश्रित लोगों को बहुत आवश्यक राहत प्रदान करने के अलावा और अधिक गुणवत्ता के साथ डायलिसिस को सुलभ बनाएगी।
उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य भारत में डायलिसिस के मरीजों की देखभाल को फिर से परिभाषित करना है। हम तेजी से अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहे हैं। हमने इस वर्ष देश भर में 50 से 60 डायलेसिस केंद्र खोलने की योजना बनाई है।

नयति मेडिसिटी के नेफ्रोलॉजी एवं किडनी ट्रांसप्लांट विभाग के डायरेक्टर डॉ के एम साहु ने कहाकि नयति में हर महीने 1800 से अधिक मरीजों की डायलेसिस की जा रही है। डायलेसिस एक ऐसी प्रक्रिया है जो एक बार शुरू हो जाये तो उम्र भर करानी पड़ती है, इसलिये लोगों को इससे बचने के लिए अपनी किडनी का विशेष ध्यान रखना चाहिए। 35 वर्ष की उम्र के बाद हर साल अपनी किडनी की जांच कराते रहना चाहिये, और किडनी में जरा सी भी कमी का पता चलने पर तुरंत नेफ्रोलॉजिस्ट को दिखाना चाहिए।

पत्रकार वार्ता में नयति मेडिसिटी मथुरा तथा नयति हॉस्पिटल आगरा के सीओओ डॉ अजय अंगरीश तथा नयति मेडिसिटी के यूरोलोजिस्ट डॉ हर्ष गुप्ता प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

Back