नयति मेडिसिटी में कोबलेटर द्वारा ऐडिनोटॉन्सिलाइटिस का हुआ सफल ऑपरेशन

मथुरा 1 जुलाई । नयति मेडिसिटी ने कोबलेटर के द्वारा एडेनोएड का ऑपरेशन कर मरीजों को नई तथा विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधा प्रदान कर दी है। अभी तक दिल्ली तथा एनसीआर के गिने चुने अस्पतालों में ही इस प्रकार की सुविधा उपलब्ध है। इससे पहले एडेनोएड सर्जरी के लिए ब्लेड का प्रयोग किया जाता था जिससे ऑपरेशन के समय खून ज्यादा बहता था तथा ऑपरेशन के बाद मरीज को काफी दर्द के अलावा सही होने में भी वक्त लगता था। इसके बाद भी पुरानी तकनीक से एडेनोएड पूरी तरह नहीं निकल पाते थे और कुछ समय बाद दोबारा सर्जरी की आवश्यकता पड़ती थी। कोबलेटर से सर्जरी के बाद एडेनोएड पूरी तरह निकल जाता है खून नहीं बहता और मरीज को दर्द भी नही होता , जिसके कारण मरीज दो दिन बाद ही अपनी दिनचर्या पहले की तरह शुरू कर सकता है। इसके माध्यम से गले के ट्यूमर, खर्राटे, स्लीप सर्जरी, टॉन्सिल आदि का इलाज सफलतापूर्वक किया जा सकता है। नयति मेडिसिटी में इस ऑपरेशन के खर्च भी दिल्ली एनसीआर के मुकाबले आधे से भी कम आता है।

इस अवसर पर नयति मेडिसिटी के सीईओ डॉ. आरके मनी ने कहा कि अभी तक एडेनोएड सर्जरी दिल्ली के भी कुछ ही अस्पतालों में सम्भव है। हमें गर्व है खुद पर तथा अपने यहां के बेहतरीन चिकित्सकों पर कि हम नयति मेडिसिटी आने वाले लोगों को भी विश्व की बेहतरीन चिकित्सा सुविधा नवीनतम तकनीक के साथ दे पा रहे हैं।

नयति मेडिसिटी के ईएनटी विभाग के प्रमुख डॉ. मनीष जैन ने बताया कि दिल्ली निवासी दिवित काफी समय से बार बार जुकाम, तथा हमेशा नाक बन्द रहने की बीमारी तथा जुकाम से परेशान थे। दिल्ली में भी उन्होंने कई अस्पतालों में खुद को दिखाया किन्तु कहीं से भी उनको संतोष जनक जवाब नहीं मिल पाया। नयति मेडिसिटी के बारे में पता चलने के बाद वे यहां आकर हमसे मिले। जांच करने के बाद पता चला कि इनको एडेनोटॉन्सिलाईटिस नामक बीमारी की परेशानी है जिसकी सर्जरी करने की आवश्यकता है। सामान्य सर्जरी द्वारा इनका काफी खून बहने की संभावना थी इसलिए हमने इनकी एडेनोएड ऐवम टांसिल सर्जरी करने का फैसला किया। अब दिवित बिल्कुल स्वस्थ हैं। ऑपरेशन के समय डॉ.श्वेता के. का भी योगदान रहा।

Back