नयति मेडिसेन्टर 6 जुलाई से आगरा में देगा विश्वस्तरीय उपचार समाज के हर तबके तक इलाज पहुंचाना ही नयति का उद्देश्य : नीरा राडिया

आगरा 4 जुलाई। नयति से पह्ले ब्रज क्षेत्र में विश्वस्तरीय चिकित्सा सेवाओ का नितांत अभाव था। जैसा कि पिछले कुछ दशकों में देखा गया है कि विश्वस्तरीय चिकित्सा सेवाएं सिर्फ बड़े शहरों में सिमट कर रह गई है। ऐसी सेवाओ के लिए मरीज को दिल्ली एनसीआर आदि जाना पड़ता था, कई बार तो स्थिति इतनी गम्भीर होती है कि मरीज दिल्ली तक पहुंच ही नहीं पाते माना, पूरे ब्रज में नयति जैसा हास्पिटल नहीं है, फिर भी हम दिल्ली-मुम्बई से कम दामों में उन जैसी चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करते हैं। अपना अगला कदम हम आगरा में रखने जा रहे हैं जो ब्रज का ही एक भाग है। फरवरी 2016 से मथुरा मेडिसिटी के रूप में शुरू हुई इस यात्रा में हमने करीब 1.8 लाख मरीजों को जहां परामर्श दिया है तो वहीं दूसरी ओर 21000 भर्ती हुए एवं 12000 आपातकालीन मरीजों को भी विश्वस्तरीय इलाज मुहैया करवाया है। अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को समझते हुए हमने विभिन्न समुदायों के साथ मिलकर करीब 5 लाख लोगों तक निशुल्क चिकित्सा शिविरों के माध्यम से उपचार पहुंचाया है। इन सभी प्रयासों और कार्यो के लिए में पूरे नयति परिवार के उन सभी की शुक्रजार हूं जो देश के अलग अलग हिस्सों से इकट्ठा हो कर हमारे माध्यम से टीयर 2 और टीयर 3 जैसे शहरों में मरीजों को अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं। इसी क्रम में आज हमारे पास 1200 कर्मचारियों की एक ताकतवर टीम है जिसमें 160 पूर्णकालीन चिकित्सक, 400 से अधिक नर्सिंग स्टाफ, 200 से अधिक टैक्नीशियनों के साथ प्रबंधन से जुडे लोग भी शामिल हैं। हमारे विश्वस्तरीय चिकित्सकीय सेवाओं को देने के वादे को निभाते हुए आने वाली 6 जुलाई से हम नयति मेडिसेन्टर आगरा मथुरा मार्ग पर गुरु का ताल गुरुद्वारे के निकट के रूप में आगरा के साथ फिरोजाबाद, एटा, इटावा, अलीगढ़, हाथरस, भरतपुर, कासगंज के निवासियों को विश्वस्तरीय तकनीक तथा भारत के बेहतरीन चिकित्सको के साथ उपचार देना प्रारम्भ कर देंगे। वैसे तो आगरा एक मेडिकल हब है ही किन्तु अब नयति के आने के बाद लोगो को और अधिक तथा विश्वस्तरीय स्वास्थ सेवाएं मिल पाएंगीं। हमारा उद्देश्य समाज के हर भाग तक विश्वस्तरीय इलाज पहुंचाना है, जिससे विश्वस्तरीय इलाज के अभाव में किसी को भी अपनी जान से हाथ न धोना पड़े। आने वाले समय में नयति स्वास्थ के क्षेत्र  में उत्तर भारत का प्रमुख केंद्र बनकर उभरेगा ये कहना था नयति मेडिसिटी की चेयरपर्सन नीरा राडिया का जो एक पत्रकार वार्ता को सम्बोधित कर रही थीं।
 
उन्होंने कहा कि नयति मेडिसेन्टर में देश के जाने माने गहन चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. आर. के. मणि, ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ. वेणु गोपाल रामाराव एवं डॉ. सोमनाथ, जाने पहचाने हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. यू.के. साधू, देश के जाने पहचाने २२ हजार से अधिक सर्जरी काने वाले मिनिमल इन्वेसिव सर्जन तथा 1500 से अधिक बेरियाट्रिक सर्जरी करने वाले डॉ. योगेश अग्रवाल, भारत में पहली बार यूरिनरी ब्लैडर बनाकर लगाने वाले डॉ. पी. बी. सिंह, मात्र मृत्यु दर काम करने वाली तथा नयति की स्त्री एवं प्रसूति विभाग की प्रमुख डॉक्टर वर्णा वी भारत में 108 एम्बुलेंस सेवा की शरुआत करने वाले तथा नयति के आपातकालीन विभाग के प्रमुख डॉक्टर गणपति गंगोली टाटा मैमोरियल कैंसर इंस्टीट्यूट में अनेकों वर्ष अपनी सेवाएं दे चुके टाटा मेमोरियल कैंसर इंस्टिट्यूट में अनेको वर्ष अपनी सेवाएं दे चुके  कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. शांतनु चौधुरी तथा डॉ. अमित भार्गव नेफ्रोलॉजी विभाग के डॉ. के.एम साहू आदि कई डॉक्टर तथा इन सभी की टीम दुनिया की बेहतरीन तकनीक के साथ मौजूद रहेंगे। उन्होंने नयति के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि नयति बनवाया गया था पूरे ब्रज क्षेत्र के लिए, पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए और भरतपुर, अलवर समेत पूर्वी राजस्थान के नागरिको के लिए, जहां ऐसी चिकित्सा सुविधाओ का नितांत अभाव था। किन्तु आज नयति मेडिसिटी में इन जगहों के अलावा मध्यप्रदेश, पंजाब, पूर्वी उत्तर प्रदेश, दिल्ली एनसीआर आदि दूरदराज के शहरों तथा प्रान्तों से भी मरीज अपने इलाज को आ रहे हैं। कई मरीज तो एयर एम्बुलेंस के द्वारा भी आपातकालीन स्थिति में अपना इलाज कराने नयति आये और बिल्कुल स्वस्थ होकर गए। अब तो नयति मेडिसिटी में विदेशी नागरिक भी अपना इलाज कराने आने लगे हैं।
 
अपने उद्देश्य के बारे में बताते हुए नीरा राडिया ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश और पूर्वी राजस्थान को गम्भीर एवं जानलेवा बीमारियों की पीड़ा से मुक्त कराना है। नयति नियमित रूप से अपने हास्पिटल के प्रांगण में एवं दूर दराज के इलाकों में निःशुल्क जाँच शिविर लगा कर तथा अपनी 16 मोबाइल मेडिकल युनिट्स के द्वारा मुफ्त जाँच  करता है, साथ ही उनके लक्षणों के बारे में जानकारी देकर लोगों को जागरूक भी करता है।  साथ ही हमने नयति पीडिएट्रिक फाउण्डेशन की स्थापना की है जिसके तहत निर्धन परिवार के 108 बच्चों के हृदय तथा कैंसर जैसे आपरेशन निःशुल्क करने का प्रण लिया गया है।  इस पहल के तहत 18 जरूरतमन्द परिवारों के बच्चों के सफल आपरेशन किए जा चुके हैं। अभी हाल ही में हमने 1100 बेड्स वाले नयति मेडिसिटी अमृतसर का शिलान्यास और भूमिपूजन किया है। हमारी आगे की योजना में बनारस तथा नागपुर में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के नयति मेडिसिटी भी खोलेंगे। अन्त में उन्होंने कहा कि भगवान् बद्रीनाथ तथा ठाकुर जी की कृपा और गुरुओं तथा सन्तों के आशीर्वाद से मैं अपना ये अभियान जारी रखूंगी। आज इस मौके पर मै यह विश्वास के साथ कह सकती हूं कि विश्वस्तरीय स्वास्थ सेवाओं पर अब सिर्फ बड़े शहरों का हक नही है।
 
नयति मेडिसिटी के सीईओ डा आर. के. मणि ने कहा कि जब आपातकाल में किसी मरीज को मीलों दूर इलाज के लिए जाना पड़ता है तो उसके रिश्तेदारों, परिवारजनों को एक उत्तम और विश्वसनीय उपचार की खोज में भटकना पड़ता है। मरीजों की इसी समस्या को देखते हुए हमने मथुरा में 2016 में नयति मेडिसिटी की शुरूआत की और आगरा का नयति मेडिसेंटर इसी क्रम का हिस्सा है। 50,000 वर्ग फुट में बने इस मेडिसेंटर में जहां हद्य रोग, कैंसर रोग, हड्डी रोग, न्यूरोसांइस, पेट संबंधी रोग, किडनी रोग, यूरोलॉजी, शिशु एवं बाल रोग, गहन चिकित्सा एवं आपातकालीन चिकित्सा का विश्वस्तरीय उपचार एक ही छत के नीचे उपलब्ध होगा। नयति मेडिसेंटर आगरा में डायलेसिस, कीमोथैरपी, जैसी सुविधाओं के साथ आधुनिकतम ऑपरेशन थियेटर, के साथ कई जीवन रक्षक सुविधाएं मौजूद रहेंगी। यहां सीटी, एमआरआई, ईईजी, ईएमजी, एनसीवी, यूएसजी, एक्सरे, के साथ लैब सुविधाएं भी इसी माह से उपलब्ध होंगी। आगरा का यह मेडिसेंटर सिंकदरा के पास आगरा मथुरा हाईवे पर स्थित है जो कि आगरा के मरीजों के साथ ही फिरोजाबाद, टूडंला, शिकोहाबाद, एटा, इटावा, कासगंज, भरतपुर, ग्वालियर, और आस पास के मरीजों के लिए भी अपनी सेवाएं प्रदान करेगा।

Back