स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज ने रखी 560 बेड के हॉस्पिटल नयति मेडिसिटी की नींव

बद्रीनाथ से कृष्ण की नगरी होते हुए गुरुओं की नगरी तक का सफर ईश्वर के आशीर्वाद से ही सम्भव: नीरा राडिया

अमृतसर 15 जनवरी। नयति हेल्थकेयर द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक कदम और आगे बढ़ाते हुए यहाँ अमृतसर में 560 बेड के हॉस्पिटल नयति मेडीसिटी के शुभारंभ को नींव जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी जी महाराज के करकमलों द्वारा रखी गयी। आने वाले समय में यह हॉस्पिटल 1100 बेड का हो जायेगा। ज्ञात हो कि नयति हेल्थ केयर की स्थापना 2012 में बद्रीनाथ से हुई थी जिसके अन्तर्गत सुदूर तथा पर्वतीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को 4 मेडिकल मोबाईल यूनिट के द्वारा स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं। 2013 में अमरनाथ मंदिर तथा आसपास के क्षेत्रों में आये भीषण तूफान के बाद भी इन मोबाईल यूनिटों ने बढ़-चढ़ कर अपनी भागीदारी निभाई तथा लोगों तक उचित इलाज पहुँचाने का प्रयास किया। आज भी पर्वतीय तथा सुदूर क्षेत्रों में इन मोबाईल यूनिट्स द्वारा लोगों तक उपचार पहुंचाया जा रहा है। इसके अलावा एक साल पहले नयति हेल्थ केयर द्वारा मथुरा में पहला मल्टी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल खोला गया जहाँ देश के जाने-माने तथा योग्य चिकित्सकों द्वारा लोगों को विश्वस्तरीय उपचार दिया जा रहा है, जिसके बाद मथुरा तथा आसपास के लोगों को अब बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाओं के लिए कहीं बाहर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती।

इस अवसर पर स्वामी अवधेशानंद गिरी जी ने कहा कि मनुष्य ईश्वर की सृष्टि की उत्कृष्टतम और अत्यन्त महान कृति है। ईश्वर संकल्प की सकारता है मानव देह। नयति के प्रयास और सकल अभियान न केवल मनुष्य की आरोग्यता तक सीमित है अपितु नयति यात्रा सकल रूपांतरण की दिशा में एक सशक्त, प्रभावी और कल्याणकारी अभियान है।

उन्होंने कहा कि व्यक्ति एक इकाई है, इस एक इकाई से परिवार, समाज और राष्ट्र की रचना होती है। व्यक्ति के सर्वांगीण अथवा समग्रविकास और उसके भगवदीय रूपान्तरण की दिशा में       कृतसंकल्पित नयति की सकल संवेदनाओं में मैं समाहित हूँ।

इस अवसर पर नयति हेल्थ केयर की चेयरपर्सन नीरा राडिया ने कहा कि हमारा शुरू से यह मानना रहा है कि आधुनिक तथा विश्वस्तरीय उपचार केवल बड़े तथा महानगरों तक ही सीमित ना रहे, अपितु अच्छे उपचार की जितनी जरुरत बड़े तथा महानगरों के लोगों को है उतनी ही जरुरत टियर2 तथा टियर3 शहरों के लोगों को भी है। समाज के हर तबके तक बेहतरीन तथा विश्वस्तरीय उपचार पहुंच सके हमारा हमेशा से यही प्रयास रहा है, और इसीलिए हमने मथुरा के बाद अमृतसर में एक विश्वस्तरीय हॉस्पिटल खोलने का निर्णय लिया। अमृतसर गुरुओं की नगरी है। 2012 में बद्रीनाथ से नयति हैल्थ केयर की शुरुआत हुई जिसके बाद हम ईश्वर की कृपा से भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में हॉस्पिटल खोल पाये और अब गुरुओं की नगरी में हॉस्पिटल की शुरुआत से खुद को मैं धन्य मानती हूँ। यहाँ अस्पताल खोलने का एक और कारण भी है, हम लोग मूलरूप से अमृतसर के ही निवासी हैं जिस वजह से अमृतसर मेरे दिल के बहुत करीब है। मैं अमृतसर में हमेशा से कुछ करना चाहती थी और अब जैसे ही मुझे मौका मिला हमने यहाँ एक विश्वस्तरीय हॉस्पिटल की नींव डाल दी, जल्द ही यह हॉस्पिटल लोगों को अपनी सेवाएं देने के लिए पूरी तरह तैयार हो जायेगा।

इस अवसर पर नयति हेल्थकेयर के ग्रुप सीईओ. डॉ.आर.के.मनी ने कहा कि हमारा हमेशा से यह मानना है कि हेल्थकेयर केवल महानगरों की सीमाओं तक ही सीमित ना रहे बल्कि अन्य शहरों के लोगों तक भी हेल्थकेयर पहुंचना चाहिए। अपनी इसी सोच को हमने मथुरा के 351 बेड के नयति हॉस्पिटल के रूप में ढाला। अब अमृतसर के लोगों तक भी विश्वस्तरीय उपकरण तथा चिकित्सक आने वाले समय में नयति मेडिसिटी के रूप में पहुंचेगे ऐसा मेरा पूरा विश्वास है। मेरा सौभाग्य है कि मैं नयति हेल्थकेयर से जुड़ सका, जीवन में मैंने कई अस्पतालों में अपनी सेवाएं दी हैं लेकिन जितना सुकून मुझे यहाँ काम करके मिलता है कहीं और नहीं मिला। लोगों की सेवा तथा समाज के हर वर्ग तक बेहतरीन उपचार पहुंचे यही नयति हेल्थकेयर का उद्देश्य है जिससे मैं बहुत ही ज्यादा प्रभावित हुआ।

नयति हॉस्पिटल के निदेशक राजेश चतुर्वेदी ने कहा कि नयति हेल्थकेयर से जुड़ने के बाद समाज के लोगों की सेवा करने का जो अवसर मुझे नीरा राडिया की वजह से मिल पाया है उसका मैं हृदय से आभारी हूँ। लोगों को स्वस्थ होकर जाते देखते हुए जो सुख मुझे मिलता है वो सुख मुझे कहीं और से प्राप्त नहीं हो सकता।

Back